हेल्थ Deep  

जीभ के रंग से समझे किस बीमारी की चपेट में आ रहा आपका शरीर, काले धब्बे पड़ना हो सकता खतरनाक

5 / 100

जीभ यानी जुबान, जो आपको स्वाद का आभास कराती है. सिर्फ स्वाद पर ही इसकी पकड़ नहीं, बल्कि आपकी सेहत से जुड़े राज भी यह जानती है. जी हां, जीभ (tongue) के रंग के आधार पर आप भी जान सकते हैं कि आपकी सेहत ठीक है या नहीं. जीभ पर पीली-सफेद परत खान-पान, धूम्रपान (smoking) की वजह से जम जाती है. मगर, कई बार जीभ का रंग लाल, काला हो जाता है. आपकी डाइट के अलावा नींद की कमी, बीमारी, बैक्टीरिया की वजह से भी जीभ का पैटर्न बदल जाता है. स्वस्थ जीभ का रंग हल्का गुलाबी है. हालांकि जीभ पर सफेद परत का होना भी नॉर्मल माना जाता है. आइये जानते हैं जीभ के रंग से कैसे जानें सेहत का राज.

गहरी लाल रंग की जीभ
एनीमिया, लाल बुखार के कारण जीभ का रंग गहरा लाल हो सकता है. इसके अलावा यह विटामिन B12 की कमी का संकेत भी हो सकता है. वहीं अगर जीभ का निचला हिस्सा गहरा लाल हो जाए तो समझ लें कि आंतों में गर्मी बढ़ गई है.

जीभ पर जमी पीली परत
जीभ पर जमी पीली गाढ़ी परत इस बात का इशारा है कि आप ओवरईटिंग कर रहे हैं. इसके अलावा डाइडेशन, लिवर या मुंह में बैक्टीरिया ज्यादा होने की वजह से जीभ पर पीली परत जम जाती है. इसके कारण मुंह से बदबू आना, थकावट, बुखार हो सकता है.

ब्राउन रंग
अधिक कैफीन, धूम्रपान या शराब (alcohol) के कारण जीभ भूरी हो जाती है. हालांकि इसे नजरअंदाज करने की बजाए अपने डॉक्टर से सलाह लें.

जीभ पर छाले पड़ना
कभी गलती से जीभ कट जाने, रुखा या तीखा भोजन लेने की वजह से मुंह में छाले पड़ जाते हैं. इसे इग्नोर ना करें क्योंकि हफ्तों से ज्यादा छाले नहीं गए तो यह अल्सर (ulcer) का रुप ले सकते हैं.  बेवजह छाले निकले हैं तो यह हार्मोन इम्बेलेंस का संकेत हो सकता है.

जीभ पर काले धब्बे पड़ना
जीभ पर काले धब्बे पड़ना शरीर में खून की कमी, डायबिटीज (diabetes) की ओर इशारा करते हैं. इसके अलावा मुंह में बैक्टीरिया (bacteria) ज्यादा होने की वजह से भी जीभ पर काले रंग के धब्बे पड़ जाते हैं.

Leave A Comment