लेटेस्ट ट्रेंड्ज़ Deep  

सिर्फ 10 मिनट में हैक हो सकता है आपका पासवर्ड! अभी करें ये काम

9 / 100

आज दुनियाभर में लगातार साइबर अपराध (Cyber Crime) की खबरें सामने आ रही हैं. जिनको सुनकर आपको भी लगता होगा कि आपका डेटा सुरक्षित नहीं है, लेकिन क्या आपको लगता है कि आप इसके लिए खुद जिम्मेदार हैं? हाल ही में आई एक रिपोर्ट इसी तरफ इशारा करती है कि भारत में हर 4 में से एक व्यक्ति कमजोर पासवर्ड रखता है.

साइबर सिक्योरिटी कंपनी कपरस्की की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत मे हर 4 में से 1 व्यक्ति अपने एकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए कमजोर पासवर्ड रखता है. कमजोर पासवर्ड यानी ऐसा पासवर्ड जिसे आसानी से डिकोड किया जा सके. आपको ज्ञात होगा कि आपके निजी डेटा और हैकर्स के बीच सिर्फ एक पासवर्ड की दीवार है और अगर ये दीवार ही कमजोर हो तो हैकर्स को आपके अकॉउंट तक पहुचने से कोई नहीं रोक सकता. ये पासवर्ड ना सिर्फ आपके निजी डेटा की चोरी बचाता है बल्कि आपके बैंक खाते हो खाली होने से भी बचाता है. बावजूद इसके लोग अपने पासवर्ड को मजबूत रखने की बजाय आसान बना रहे हैं और हैकर्स आपकी इसी कमजोरी का फायदा उठा रहे हैं.

इन लोगों को हैकर्स बनाते हैं निशाना
इंटरनेट यूजर्स के लिए दूसरा सबसे बड़ा चैलेंज है अलग-अलग एकाउंट के लिए अलग पासवर्ड रखना. रिपोर्ट के मुताबिक 1 व्यक्ति इंटरनेट पर औसतन 27 अलग-अलग एकाउंट बनाता है. इसमें सोशल मीडिया, ई-कॉमर्स कंपनियों से लेकर बैंक एकाउंट के ऑनलाइन एक्सेस होते हैं. ऐसे में सभी अकॉउंट के लिए अलग पासवर्ड याद रखना लोगों के लिए मुश्किल होता है. यही कारण है कि ज्यादातर लोग अपने सभी इंटरनेट अकॉउंट्स में एक जैसा पासवर्ड रख देते हैं और यहीं हैकर्स के निशाने पर आ जाते हैं.

साइबर एक्सपर्ट ने किया सावधान
इस बारे में साइबर एक्सपर्ट जितेन जैन ने बताया कि हम ऐसे पासवर्ड रखना चाहते हैं जो आसानी से याद हो जाएं. इसके साथ ही हर एक प्‍लेटफॉर्म पर एक सा पासवर्ड रखते हैं. इससे होता ये है कि एक साथ लोगों के सारे एकाउंट हैक हो जाते हैं. इतना ही नहीं उन्होंने ब्राउजर पर पासवर्ड सेव करना लोगों की सबसे बड़ी भूल बताया. जैन ने कहा कि समय बचाने के लिए हम आम तौर पर किसी भी वेबसाइट पर पासवर्ड सेव कर देते हैं. जो बाद में हैकर्स का काम आसान कर देता है.

क्या कहते हैं आंकड़े
आंकड़ों पर गौर करें तो करीब 32 प्रतिशत लोग वेब ब्राउजर पर अपना पासवर्ड सेव कर देते हैं. और 25 प्रतिशत लोग अपने कंप्यूटर या मोबाइल में नोट या लिस्ट के रूप में अलग से पासवर्ड  सेव करते हैं. इसके अलावा 17 प्रतिशत लोग पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन इससे भी हैकर्स से बच पाना मुश्किल है.

Leave A Comment