महफ़िले ए आम Deep  

मां की ममता | Happy Mother’s Day 2021

75 / 100

मां की ममता

 

मां कौन है, क्या है?

मां वो है जो हर पल मेरे साथ है।

मां वो है जो करती हमसे निस्वार्थ प्यार है।

मां वो है जिसके होने से मिल जाती हर राह है,

ज़मीन से पर्वत तक, पर्वत से ज़मीन

है कोई इसके जैसा, आपको करना होगा यकीन।

मां की ममता में सिमटा यह संसार है,

वो एक नज़र डालें तो चांद भी मुस्कुराता है,

बच्चों का मामा बन जाता है और लोरी सुनाने आता है

एक उंगली घुमाए तो, सूरज फीका पड़ जाता है,

उसके दमकते चेहरे की आग से, सूरज भी शर्मा जाता है।

उसने सोने का दिल रखा है जिसमें उसका परिवार बसता है,

मां के होने से ही यह परिवार चलता है।

मां लोरियां गा कर सुलाती है, इसलिए तो मां ममता की सागर कहलाती है।

फिर भी एक प्रश्न है जो उठता है मेरे मन में बार-बार,

क्यों मनुष्य करता है मां का तिरस्कार..?

क्या उसे दिखता नहीं मां की वो आंखों में प्यार?

फिर क्यों करता है तिरस्कार बारम बार …. बारम बार….।।

धन्यवाद

 To Read More About My Poem : https://hindi.bloggbuzz.com/mehfil-e-aam/

Leave A Comment