Mithaeeyon kee ladaee
महफ़िले ए आम Deep  

Haasy kavita -Mithaeeyon kee ladaee

80 / 100

Haasy Kavita

Mithaeeyon kee ladaee

मुझे पसंद है लाखों मिठाईयाँ
लप-लप मैं खा जाऊँ,क्या रसगुल्ला  क्या रस्मलाई सबका रस पी जाऊँ।

कौन-सी मिठाई सबसे अच्छी इस बात की होड़ है,

गुलाब जामुन मीठी जलेबी सब ही गोल-मटोल हैं ।
यहीं सोचकर हुई लड़ाई रसगुल्ला बोलो मैं मीठा,

बर्फी बोली मैं भी तो खड़ी मेरे पीछे लाखों की भीड़ है पड़ी।
चमचम बोली चल चुपकर बर्फी क्या तुझ मैं रखा है?

मुझ में ज़्यादा रस भरा है।
दूध ने गपकर बोला क्यों करते हो लड़ाई,

मैं नहीं होता तो क्या बनती फिर कोई मिठाई? ?
सभी सभा में चुप हुए खत्म हुई लड़ाई दूध जीता हार गई सारी मिठाई…।।

Leave A Comment